Tag: कविता/गीत/गजल/मुक्तक

विचित्र समोसा

गिन तानी अँगुरी क पोर

गीत जिनगी के