रोपनी के रउंदल देहिया सांझ ही निनाला ……… (प्रकाश उदय )