नया जमाना के सोच सगरी गजल के तेवर पलट रहल बा ………….. (तंग इनायतपुरी )