दिखाई देता ओही के भीतर जे नइखे लउकत उ के ह साहेब …….. (तंग इनायतपुरी )